दुनिया में हाथ पैर हिलाना नहीं अच्छा-ग़ज़लें-भारतेंदु हरिश्चंद्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bharatendu Harishchandra 

दुनिया में हाथ पैर हिलाना नहीं अच्छा-ग़ज़लें-भारतेंदु हरिश्चंद्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bharatendu Harishchandra

दुनिया में हाथ पैर हिलाना नहीं अच्छा।
मर जाना पै उठके कहीं जाना नहीं अच्छा ।।

बिस्तर प मिस्ले लोथ पड़े रहना हमेशा।
बंदर की तरह धूम मचाना नहीं अच्छा ।।

“रहने दो जमीं पर मुझे आराम यहीं है।”
छेड़ो न नक्शेपा है मिटाना नहीं अच्छा ।।

उठा करके घर से कौन चले यार के घर तक।
‘‘मौत अच्छी है पर दिल का लगाना नहीं अच्छा ।।

धोती भी पहिने जब कि कोई गैर पिन्हा दे।
उमरा को हाथ पैर चलाना नहीं अच्छा ।।

सिर भारी चीज है इसे तकलीफ हो तो हो।
पर जीभ विचारी को सताना नहीं अच्छा ।।

फाकों से मरिए पर न कोई काम कीजिए।
दुनिया नहीं अच्छी है जमाना नहीं अच्छा ।।

सिजदे से गर बिहिश्त मिले दूर कीजिए।
दोजख़ ही सही सिर का झुकाना नहीं अच्छा ।।

मिल जाय हिंद खाक में हम काहिलों को क्या।
ऐ मीरे फर्श रंज उठाना नहीं अच्छा ।।

(‘भारतदुर्दशा’ में से)

Leave a Reply