दिल वह तुरिआ दिल वह तुरिआ-गज़लें-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala

दिल वह तुरिआ दिल वह तुरिआ-गज़लें-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala

दिल वह तुरिआ दिल वह तुरिआ,
किदां मैं रोकां राह इसदी ।
सदीआं तों लोकीं नाप रहे,
किसे ना पाई थाह इसदी ।

किते अग्ग दे भांबड़ बल उट्ठण,
किते बरफ़ बरफ़ ही जंम जांदी ;
ना कोई स्याना दस्स सक्या,
किदां असर करेंदी आह इसदी ।

जो कतरा कतरा हो सकदा,
उसनूं सूली दा डर काहदा ;
जो ज़हर प्याला पी सकदा,
उह करदा फिर परवाह किसदी ।

इक्क सुपना किधरे टुट्ट्या सी,
तुसीं उस ‘ते मिट्टी पा रोंदे ;
इहदे हेठ वी लक्खां सुपने ने,
जो मिद्धी होई घाह दिसदी ।

तेरे साहवें जो वी हुण्दा ए,
तूं उस तों अक्खां मीट लईआं ;
पर ख़ुद तों बचन लई सज्जणां,
ना किधरे कोई पनाह दिसदी ।

Leave a Reply