दिला मेरिआ सुणावें कीहनूं हाल-पंजाबी गीत-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

दिला मेरिआ सुणावें कीहनूं हाल-पंजाबी गीत-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

दिला मेरिआ सुणावें कीहनूं हाल ?
सभनां दे कन्न बन्द ने ।
आपे होई जावें हाल तों बेहाल,
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

इह जु महफ़िलां दे बन्दे तक्कें रंगा रंगदे ।
दिल तोड़नों किसे दा भैड़े नहींउं संगदे ।
शमां नित्त नवीं रक्खदे कोई बाल,
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

अक्खां इन्हां दीआं मोतिया बिन्द हो गिआ ।
तेरे जेहा इत्थे लक्खां आ के जिन्द खो गिआ ।
काहनूं हंझूआं दे भरनैं तूं ताल,
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

तेरे कप्पड़े लीरां ‘ते हालत फ़कीरां ;
सभनां पा के लकीरां, डेगियां ज़मीरां ;
जित्थों वगदा प्या ए खून लाल ।
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

मार महफ़िलां नूं लत्त, हैन भले चंगे सत्थ ;
तेरा खिच्च रहे रत्त, इह पछान लै तूं हत्थ ;
नहीं तां बचना हो जाना एं मुहाल ।
सभनां दे कन्न बन्द ने ।

Leave a Reply