दिन का दर्पण-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

दिन का दर्पण-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

दिन का दर्पण
नित्य दिखाता
दिनकर,
संप्रेषित करता दर्पण से,
अवनी तल का व्यापक अंक,
जहाँ-
अतुल अनुमोदन होता,
अविनश्वर
अनुरंजक।
मैं
अनुरंजक आमोदन का
आसव पीता हूँ
जग में जीवन
अविकल जीता हूँ।

रचनाकाल: ०२-०९-१९९१

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply