दिखाई देते हैं धुँद में जैसे साए कोई-ग़ज़ल-गुलज़ार-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gulzar 

दिखाई देते हैं धुँद में जैसे साए कोई-ग़ज़ल-गुलज़ार-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gulzar

दिखाई देते हैं धुँद में जैसे साए कोई
मगर बुलाने से वक़्त लौटे न आए कोई

मिरे मोहल्ले का आसमाँ सूना हो गया है
बुलंदियों पे अब आ के पेचे लड़ाए कोई

वो ज़र्द पत्ते जो पेड़ से टूट कर गिरे थे
कहाँ गए बहते पानियों में बुलाए कोई

ज़ईफ़ बरगद के हाथ में रअशा आ गया है
जटाएँ आँखों पे गिर रही हैं उठाए कोई

मज़ार पे खोल कर गिरेबाँ दुआएँ माँगें
जो आए अब के तो लौट कर फिर न जाए कोई

Leave a Reply