दस्स जावीं-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

दस्स जावीं-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

रग रग चों रोगी दा रोग कढ्ढ्या,
आप पुज्ज के उहदे मकान अन्दर ।
चोट शबद दी ने लोट पोट कीते,
मानी मत्ते सी बहुत जो मान अन्दर ।
बान बानी दे जदों चलान लग्गे,
रक्ख के सुरत दी पक्की कमान अन्दर ।
आपो आपने फिकर दे विच पै के,
उठे कम्ब उह पंजे जवान अन्दर ।
तड़प तड़प के कहन दुहाई बाबा,
तीर कस्सके ख़ाली ना नस्स जावीं ।
जान वाल्या, एधरों मार्या ई,
वल जीन दा उधरों दस्स जावीं ।

इह तां फरक ख़ाली साडी समझ दा ए,
भाव मारने तों नहीं है मारने दा ।
किते होंवदा तार के तार देणा,
किते डोबने तों भाव तारने दा ।
किते किते तां हार वी जित्त हुन्दी,
किते जितना भाव है हारने दा ।
सिर्युं मार के सानूं तैं सारना की,
असल भाव तां है ना संवारने दा ।
बस ढिल्ले हां तां ज़रा कस्स जावीं,
राह भुल्ले हां तां फेर दस्स जावीं ।
सच्ची पुच्छें तां असीं तां इहो कहसां,
जावीं नस्स ना एथे ही वस्स जावीं ।

पहलां आखीए, फेर तूं चला जावीं,
वाजां मारके पिछों बुलावीए पए ।
पत्थर मारके वली कंधार वांङूं,
रहीए झूरदे फेर पछतावीए पए ।
ढट्ठे प्यां नूं उद्धर बणान लग्गीए,
इद्धर बने बणाए नूं ढावीए पए ।
घरों टोरके वीर दिलगीर होईए,
भैन नानकी वांग घबरावीए पए ।
किसे तार बेतार दी राहीं हो के,
साडे अन्दरले दे अन्दर धस्स जावीं ।
फेर रहवनी ना लोड़ कहवने दी,
राह भुल्ल्यां नूं फेर दस्स जावीं ।

हुन हां होर ते होर दे होर हुन हां,
सच्ची पुछें तां साडा वसाह कोई नहीं ।
उथे उह ते इथे हां आह असीं,
ऐवें उह कोई नहीं असीं आह कोई नहीं ।
जे तूं करें पैदा असीं चाह वाले,
वैसे दिल साडे अन्दर चाह कोई नहीं ।
असीं सार्यां राहां ते चलन वाले,
एसे वासते तां साडा राह कोई नहीं ।
राह दस्स जावीं नालों, इह चंगा,
राह दस्सदा रह सदा दस्सदा रह ।
साडे दिल दा महल ना रहे सुंञा,
इथे वस्सदा रह, सदा वस्सदा रह ।

Leave a Reply