दर्द-ए-दिल पास-ए-वफ़ा जज़्बा-ए-ईमाँ होना-ग़ज़लें-बृज नारायण चकबस्त-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Brij Narayan Chakbast

दर्द-ए-दिल पास-ए-वफ़ा जज़्बा-ए-ईमाँ होना-ग़ज़लें-बृज नारायण चकबस्त-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Brij Narayan Chakbast

दर्द-ए-दिल पास-ए-वफ़ा जज़्बा-ए-ईमाँ होना
आदमियत है यही और यही इंसाँ होना

नौ-गिरफ़्तार-ए-बला तर्ज़-ए-वफ़ा क्या जानें
कोई ना-शाद सिखा दे उन्हें नालाँ होना

रोके दुनिया में है यूँ तर्क-ए-हवस की कोशिश
जिस तरह अपने ही साए से गुरेज़ाँ होना

ज़िंदगी क्या है अनासिर में ज़ुहूर-ए-तरतीब
मौत क्या है इन्हीं अज्ज़ा का परेशाँ होना

हम को मंज़ूर है ऐ दीदा-ए-वहदत-आगीं
एक ग़ुंचे में तमाशा-ए-गुलिस्ताँ होना

जिस तरह ख़ुम किसी जाम का टुकड़ा निकले
यूँही गर्दूं से मह-ए-नौ का नुमायाँ होना

सर में सौदा न रहा पाँव बेड़ी न रही
मेरी तक़दीर में था बे-सर-ओ-सामाँ होना

सफ़्हा-ए-दहर में मोहर-ए-यद-ए-क़ुदरत समझो
फूल का ख़ाक के तूदे से नुमायाँ होना

हो बयाज़-ए-सहर-ए-नूर पे दिल क्या माइल
याद है दफ़्तर-ए-अंजुम का परेशाँ होना

कल भी वो कल जो है फ़र्दा-ए-क़यामत ज़ाहिद
और फिर उस के लिए आज परेशाँ होना

पाँव ज़ंजीर के मुश्ताक़ हैं ऐ जोश-ए-जुनूँ
है मगर शर्त तिरा सिलसिला-जुम्बाँ होना

दफ़्तर-ए-हुस्न पे मोहर-ए-यद-ए-क़ुदरत समझो
फूल का ख़ाक के तोदे से नुमायाँ होना

दिल असीरी में भी आज़ाद है आज़ादों का
वलवलों के लिए मुमकिन नहीं ज़िंदाँ होना

गुल को पामाल न कर लाल-ओ-गुहर के मालिक
है उसे तुर्रा-ए-दस्तार-ए-ग़रीबाँ होना

है मिरा ज़ब्त-ए-जुनूँ जोश-ए-जुनूँ से बढ़ कर
नंग है मेरे लिए चाक-गरेबाँ होना

क़ैद यूसुफ़ को ज़ुलेख़ा ने किया कुछ न किया
दिल-ए-यूसुफ़ के लिए शर्त था ज़िंदाँ होना

Leave a Reply