तेरे नाल इकट्ठियां तुरियां रुक रुक तैनूं भालदियां-गज़लें-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala

तेरे नाल इकट्ठियां तुरियां रुक रुक तैनूं भालदियां-गज़लें-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala

तेरे नाल इकट्ठियां तुरियां रुक रुक तैनूं भालदियां ।
हुन्दियां सी तरीफ़ां बड़ियां सुहण्यां तेरी चाल दियां ।

पहला तीर ही सिद्धा आया तैनूं ज़ख़मी कर ग्या उह,
किधर गईआं ने पक्याईआं तेरी ढाल कमाल दियां ।

शरमदियां ते डरदियां उसतों सारी उमर गंवा लई ए,
विच्च ख़्यालां गल्लां करदैं उस दे नाल विसाल दियां ।

मींह वी आउना चिकड़ होना इह नियम ने कुदरत दे,
तिलकदियां पर उही जिन्दां जो ना पैर संभालदियां ।

सुट सुट गए वकतां ‘ते हंझू की खट्टना की खाना तूं,
भिज्या फिरदैं सारा मींह विच गल्लां करदैं काल दियां ।

ग़ज़लां लिख लिख हुब्बीं जावें आपूं पढ़ पढ़ ख़ुश होवें,
की कंम इह लिखियां पढ़ियां जो ना लहू उबालदियां ।

Leave a Reply