तेरी सूरत जो दिलनशीं की है-दस्ते सबा -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

तेरी सूरत जो दिलनशीं की है-दस्ते सबा -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

तेरी सूरत जो दिलनशीं की है
आशन: शक्ल हर हँसी की है

हुस्न से दिल लगाके हस्ती की
हर घड़ी हमने आतशीं की है

सुब्‍हे-गुल हो कि शामे-मयख़ान:
मदह उस रु-ए-नाज़नीं की है

शैख़ से बे-हिरास मिलते हैं
हमने तौबः अभी नहीं की है

ज़िक्रे-दोज़ख़, बयाने-हूरो-कुसूर
बात गोया यहीं कहीं की है

अश्क तो कुछ भी रंग ला न सके
ख़ूँ से तर आज आस्तीं की है

कैसे मानें हरम के सहल-पसन्द
रस्म जो आ’शिक़ों के दीं की है

’फ़ैज़’ औजे-ख़याल से हमने
आसमाँ सिंध की ज़मीं की है

Leave a Reply