तू जरा सी-डॉ. अमरजीत टांडा-Dr. Amarjit Tanda -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

तू जरा सी-डॉ. अमरजीत टांडा-Dr. Amarjit Tanda -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

तू जरा सी
दूर वहती रही
और मैं करीबी से गुजरता रहा

तू चंदा को देखती रही
मैं तेरे हुसन को देख देख
तेरी पेंटिंग बनाता रहा

जैसे तू मेरे साये में पली हो
तेरा एक एक अंग भरा हो महिकों से
जुवान हूया हो
मेरे साथ चलते चलते

देख कैसे गुजर जाते हैं
सालों साल
एक दूसरों के सांसों में
एक दूसरों कीं आखों में

 

Leave a Reply