तुलसी तुमको सौ बार नमन-कविता-रामेश्वर नाथ मिश्र ‘अनुरोध’ -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rameshwar Nath Mishra Anurodh

तुलसी तुमको सौ बार नमन-कविता-रामेश्वर नाथ मिश्र ‘अनुरोध’ -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rameshwar Nath Mishra Anurodh

 

हे काव्य-सूर्य ! हे कविकुल गुरु ! संस्कृति संरक्षक ! शोक-शमन !
हे संतशिरोमणि ! भक्त प्रवर तुलसी ! तुमको सौ बार नमन ।।

तुमने निज मानस मंथन से जो प्राप्त किया मोती महान,
वह ‘रामचरित’ बन चमक रहा, ज्योतित जिससे सारा जहान ।
हे देवदूत ! हे तपःपूत ! सक्षम सपूत ! तारक तुलसी !
तुमसे भारत-भू धन्य हुई, तुमको पाकर ‘हुलसी’ हुलसी ।।
तेरा विचार आचार बना, आदर्श बना नूतन विधान,
हे युगदृष्टा ! हे युग स्रष्टा ! हे युग नायक ! हे युग-निधान !
बहु भेद-भाव की ज्वाला से मानवता को सहसा निकाल,
तुमने अमृत का दान किया, हो गया विश्व मानव निहाल ।
हे भारत माँ के मणिकिरीट ! तुमने, पशुता का किया दमन ।
हे संतशिरोमणि ! भक्त प्रवर तुलसी ! तुमको सौ बार नमन ।।

सम्पूर्ण वेद, उपनिषद, धर्म-शास्त्रों का लेकर सरस सार,
मानस का करके महत सृजन निज संस्कृत ली तुमने उबार ।
दासता – दंश से दीन, देश जड़ता से था प्रस्तरी भूत,
उसका तुमने उद्धार किया हे पुण्यात्मा ! हे सुधा- स्यूत !
बरसा कर चिंतन – विमल वारि, हर कर जग का दारुण प्रदाह,
हे युग के मनु !तुमने दे दी, जन को दे दी जीने की नयी राह ।
तव मानस से जन-मानस की, नस – नस में भरकर रस अपार
फूटी करुणा की कालिन्दी, टूटीवीणा के जुड़े तार ।
मिट गए द्वेष, लुट गए पाप, उत्फुल्ल हुए सब जड़-चेतन ।
हे संतशिरोमणि ! भक्त प्रवर तुलसी ! तुमको सौ बार नमन ।।

हे जन के कवि ! जन हेतु रचा जो तुमने यह मानस महान,
उसमें संचित है भाव भव्य, रस, रीती, नीति, परमार्थ ज्ञान ।
उसमें से निकली रामभक्ति की सुर-गंगा की अमियधार,
बह गए कलुष-कर्दम के गिरी, जन -जीवन में आया निखार।
श्री राम नाम का गूँज उठा, मानव-उद्धारक महामंत्र,
हो गए गगन, नक्षत्रपुंज, दिग औ’ दिगन्त सहसा स्वतंत्र ।
चहुँ ओर समन्वय – समता का लहराया तेरा द्वाज सहर्ष,
सहसा विशिष्ट हो गया शिष्ट इस धरती पर, अजनाभवर्ष ।
हे कव्य – कला के कलित कुञ्ज ! विज्ञानं – ज्ञान के चारु चमन ।
हे संतशिरोमणि ! भक्त प्रवर तुलसी ! तुमको सौ बार नमन ।।

तुमने देखा जो रामराज्य का स्वप्न सुखद, आलोक वरण,
बन गया वही इस जगती के साधन का पुरश्चरण ।
उसको पाने के लिए सतत गतिशील यहाँ पर लोकतंत्र,
बस ‘राम-राज्य’ स्थापन ही बन गया विश्व का मूल-मंत्र ।
अधुनातन सकल समस्या का प्रस्तुत जिसमें समुचित निदान,
जो शक्ति, शील, सौन्दर्य, मनुज-मर्यादा का मोहक वितान ।
जो है जीवन का श्रेय, प्रेय, नव-रस, यति, गति, लय, ताल, छन्द,
त्रयताप – शाप से पूर्ण मुक्ति, कल्याण-कलित, अविकल अमन्द ।
जो है मानवता का गौरव, भू-मण्डल का है शांति – अमन ।
हे संतशिरोमणि ! भक्त प्रवर तुलसी ! तुमको सौ बार नमन ।।

 

Leave a Reply