ताजमहल-प्यार पनघटों को दे दूंगा -शंकर लाल द्विवेदी -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankar Lal Dwivedi

ताजमहल-प्यार पनघटों को दे दूंगा -शंकर लाल द्विवेदी -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankar Lal Dwivedi

 

=======================
ताज तुझे जब-जब देखा अन्तर्नयनों से,
कलाकार का मन सहसा भर-भर आया है।
दुर्गति पर उन सभी कलाकारों की जिनके-
हाथ कटे, पलकों में सावन घिर आया है।।

=======================
श्वेत-दूधिया दीप्ति तुम्हारी प्राचीरों की,
लगता है वे लाश कफ़न ओढ़े सोईं हैं।
विधवा पत्नी, माँ-बहिनों की; अश्रु-सलिल से-
तेरे उपवन में असहाय व्यथा बोई हैं।।

=======================
उस युग में भी नृत्य विषमता करती होगी-
भूखे पेट, ठिठुरती रातें, तारे गिन कर।
उसी समय जन-साधारण ने काटीं होंगी-
शाहजहाँ धुत् होगा जब कुछ ज़्यादा पी कर।।

=======================
शाहजहाँ के तप्त अधर, मुमताज महल के-
सुर्ख़, नरम, चिकने अधरों पर फिसले होंगे।
दीवानापन भी सवार दोनों पर होगा-
आलिंगन में बँधे, सेज पर मचले होंगे।।

=======================
दीवारें उन्मत्त क़हक़हों को सुनती थीं,
मंद-पवन मादकता का उद्दीपक बन कर-
नग्न-प्राय अंगों को छू कर हँस देता था-
दबे पाँव, दरवाज़ों के पर्दों से छन कर।।

=======================
ठीक उसी क्षण, पर्ण-कुटी में नतशिर बैठे-
दम्पति अपनी दरिद्रता पर व्याकुल-विस्मित,
बुझी राख चूल्हे की, लकड़ी से कुरेद कर-
ठण्डी आहें भरते होंगे या फिर चिन्तित-

=======================
एक दूसरे की आँखों में झाँक-झाँक कर,
खोज रहे होंगे अनेक प्रश्नों के उत्तर।
कोरों से उत्तप्त अश्रु-कण, रह-रह, बह-बह-
मिट जाते ज्वर-दग्ध कपोलों पर बुझ-बुझ कर।।
=======================
तेरी कला और वैभव ने तब से अब तक,
केवल पूँजीवादी स्वर आबाद किया है।
ताजमहल! सच मान, झूठ कुछ नहीं कि तूने-
पाक मुहब्बत का दामन नापाक किया है।।
=======================

तू केवल कामुक प्रवृत्ति का परिचायक है,
पावनता की गंध किसी को कैसे आए?
वैसे भी तू अंध कूप पर आधारित है-
कौन तुझे श्रद्धा से देखे, शीष झुकाए?
=======================

तेरा यह निर्माण इसलिए भी कलुषित है-
जन-धन का उपयोग व्यक्ति के लिए हुआ है।
धिक्-धरती के विपुल-वक्ष पर पड़े फफोले!-
यमुना की संगत के बल पर खड़ा हुआ है।।
=======================

यमुना की धारा से कल यह प्रश्न कर लिया-
‘दर्शन’ और ‘देखने’ में अन्तर है कितना?
कल-कल स्वर में हँस कर, कर इंगित कर बोली-
‘वृन्दावन’ में और ‘आगरे’ में है जितना।।
=======================

तू मज़ार पर नहीं, स्वतंत्र रूप से बन कर-
तत्कालीन कला का परिचायक भर होता।
निःसन्देह अवनि क्या अम्बर के भी मन में-
अपने प्रति श्रद्धा के नव-नव अंकुर बोता।।
=======================

तुझे नहीं परिज्ञात हुआ अब तक यह शायद,
कैसे, किस कारण सहसा धरती पर आया?
तेरी जीवन-ज्योति जला कर कितने दीपक-
बुझे- और कितने गेहों में तम घहराया।।
=======================

चौदह बच्चों की माँ, कभी रोग-शैया की-
बाँह गहे, जीवन की नश्वरता से चिन्तित-
पड़ी हुई थी, जीवन-साथी झुक पलंग पर-
पूछ उठा, ‘क्या वस्तु तुम्हें है इस क्षण इच्छित?’
=======================

माथे पर कलंक-रेखा सी झुकी लटों को-
बेगम ने बेताब अँगुलियों में उलझा कर।
मदिर-रुग्ण नयनों के सम्मोहन में डूबे-
शहंशाह से सौगंधों का जाल बिछा कर-
=======================

प्रण करवाया ‘मेरे मर जाने पर ऐसी-
यादगार बनवाना जो अपूर्व कहलाए।
दुनिया भर में जिसकी शोहरत का स्वर गूँजे;
प्यार भरे हृदयों को जो तीरथ बन जाए।।
=======================

जिसको दर्पण समझ, इन्दु अपनी छवि देखे,
यमुना अपने निर्मल जल से चरण पखारे।
चिड़ियाँ साँझ-सवेरे अपने चह-चह स्वर से-
उपवन के बिरवों पर बैठीं गगन गुँजारें।।
=======================
और…और…’ बस इतना भर कह सकी, देह-सर,
साँसों के हंस, हुए मुक्त पाँखें फैलाए-
उड़े पवन के साथ, दृष्टि से ओझल हो कर,
श्वेत पुतलियाँ देख शाह के दृग भर आए।।
=======================

वंचित सा अवाक्, शव पर पागलों सरीख़ा-
हाथ फेर कर, बार-बार निज केश नोंच कर-
चीख़ा- ‘कोई है’, तुरन्त किंकरी उपस्थित-
हुई, देख बोला- ‘वज़ीर को भेज खोज कर’।।
=======================

इतने पर भी मूढ़ नहीं समझा इतना भी,
संसृति का सब कुछ नश्वर ही तो है, केवल-
प्रेम अमर है, मूर्त साधनों के संबल की-
उसे अपेक्षा नहीं, तान कर फिर भी तेवर।।
=======================

उग्र स्वरों में पास खड़े वज़ीर से बोला-
‘श्रेष्ठ कलाकारों-मज़दूरों से यह कहना-
यमुना-तट पर एक अपूर्व भवन बनना है,
चलो अभी आनाकानी कोई मत करना’।।
=======================
उसके आज्ञापित सैनिक तब नगर-नगर की-
गली-गली में घूमे होंगे, गेह-गेह में।
घुसकर बरबस ले आए होंगे श्रमिकों को,
चार-चार, छः-छः कोड़े खा नग्न देह में-।।
=======================
अश्वारोही दीवानों के साथ दौड़ कर-
थके हुए हरिया-रफ़ीक़ ने हाथ जोड़ कर-
दो पल सुस्ताने को किया विनम्र निवेदन;
मुँह पर ठोकर दी सैनिक ने अश्व मोड़ कर।।
=======================
कहा कि-‘नालायक! विलम्ब का काम नहीं है,
मज़दूरों के लिए आग बरसे या पानी।
सुस्ताने के हेतु छूट देने का मतलब-
अनुशासन-शासन दोनों की नींव हिलानी’।।
=======================
तात्पर्य, तू जो कुछ भी है उसके नीचे,
बच्चों-बूढ़ों के विलाप का दबा शोर है।
रक्त-वर्ण दीवारें दो प्रवेश द्वारों की?-
एक-एक पाषाण रक्त में सराबोर है।।
=======================
तेरे निर्माता ने अपने अधिकारों का-
दुरुपयोग जो किया विवशता का श्रमिकों की।
वह अपराध किया है अनुचित लाभ उठा कर,
क्रमागता पीढ़ियाँ क्षमा कर नहीं सकेंगी।।
=======================
कर कटवाते समय उसे यह ध्यान नहीं था-
कालान्तर में कला परिष्कृत प्रौढ़ बनेगी।
क्योंकि विकास धर्म है मानव के जीवन का,
फलतः सारी स्रष्टि उसे निर्बुद्धि कहेगी।।
=======================
रजत ज्योत्सना में तो सब सुन्दर लगते हैं,
कोई तेरा रूप, अमावस्या को देखे।
मृत्यु-पिशाची अट्टहास कर उठे, अचानक-
दशन-समूह दृष्टिगोचर होता हो जैसे।।
=======================
परिवर्तन का दैत्य, समय के तीक्ष्ण-भयंकर-
नाख़ूनों से अंग-अंग तेरा नोंचेगा।
जब कोई निष्पक्ष नया इतिहास लिखेगा,
तू उस रोज़ विवश हो कर अवश्य सोचेगा।।
=======================
जिस दिन मेरी आँखों से देखेगा कोई-
उस दिन तेरा सहज सत्य प्रतिभासित होगा।
जिस दिन भूमिसात् होंगी तेरी प्राचीरें,
उस दिन तेरा सही स्वरूप प्रकाशित होगा।।
=======================
मैं क्या था, राजसी दम्भ या पागलपन का-
शोषण और रक्त से पनपा अनाचार था।
तृण से भी था नगण्य, जिस कारण पुजा हुआ था,
कलाकार की सहन शक्ति- ‘श्रम’ का प्रचार था।।

-24 मार्च, 1965

 

Leave a Reply