तसादा दा कबरिसतान- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov) 

तसादा दा कबरिसतान- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov)

सफ़ेद कफ़न नाल, हनेरे विच ढक्के,
प्यारे हमसाययो, कबरां विच हो दफ़न पए,
तुसीं ओ नेड़े, फिर की घर ना परतोगे
मुड़्या मैं घर, दूर दूर जा, किते किते ।

मेरे पिंड दे बेली बहुत ही घट्ट रहगे,
रिशतेदार हुन मेरे बाहले रहगे ना,
वड्डे वीर दी बेटी मेरी भतीजी वी,
सवागत करे, बुलाए चाचा कहके ना ।

हस्समुक्ख अल्लढ़ बच्चीए तेरे ते बीती की ?
लंघदे जांदे साल जिद्दां नदी वहे,
खतम होई पढ़ाई नाल दियां सखियां दी
पर तूं जित्थे एं ओथे कुझ ना कदी बचे ।

लग्गा मैनूं अजब, बेतुका बाहला ई,
एथे ना कोई जिय सभ सुन्नसान प्या,
ओथे जित्थे कबर ए मेरी बेली दी,
अचानक उहदा जुरना वाजा टुनक प्या ।

जिवें पुराने वेल्यां वांगूं ओदां ही,
खंजड़ी उहदे साथी दी वी गूंज पई,
मैनूं लग्गा जिद्दां किसे गुआंढी दी,
खुशी मनाउंदे पए ने उहदी शादी दी ।

नहीं, एथे जो रहन्दे शोर मचाउंदे नहीं,
कोई वी तां एथे दए जवाब ना,
कबरिसतान तसादा दा सुन्नसान ई,
अंतमघर ए इह मेरे पिंड वासियां दा ।

तूं वधदा जाएं तेरियां हद्दां फैल ‘गियां,
तंग हुन्दा जांदा तेरा हर इक कोना ए,
है मैनूं पता कि इक दिन ऐसा आएगा,
जद आखर मैं वी एथे आ के सौना ए ।

लै जान राहां किते वी सानूं, आखर तां,
हशर ए सभ दा इको मिलदियां सभ इथे,
पर तसादा दे कुझ लोकां दियां कबरां,
नज़र ना आउंदियां मैनूं लभ्भ्यां वी किते ।

नौजवान वी, बुढ्ढे वीर सिपाही वी,
सौन हनेरी कबरीं घर तों दूर जा,
पता न्ही कित्थे हसन कित्थे महमूद ए,
पुत्त-पोतरे मोए किधरे दूर जा ।

तुसीं वीरनो कित्थे गए शहीद हो,
नाल तुहाडे मेल न्ही होना पता है इह,
पर तुहाडियां कबरां विच तसादा ए,
मिलदियां नहीयों दुखी करेंदा हाल इह ।

दूर किते जा गोली वज्जी सीने ते,
पिंडों दूर, ज़खमी हो मर गए किते,
कबरां तेरियां कबरिसतान तसादा दे,
फैलियां किन्नियां दूर दूर परे किते ।

ठंढियां थावां, हुन तां गर्म परदेसां ते,
वर्हदी अग्ग, जित्थे हिम-तुफान चले,
लोकी अउंदे लै के फुल्ल प्यारां दे,
शरधा वाले सीस, उह झुकान पए ।

This Post Has One Comment

Leave a Reply