तलाश कर न ज़मीं आसमान से बाहर-ग़ज़लें -निदा फ़ाज़ली-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nida Fazli

तलाश कर न ज़मीं आसमान से बाहर-ग़ज़लें -निदा फ़ाज़ली-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nida Fazli

तलाश कर न ज़मीं आसमान से बाहर
नहीं है राह कोई इस मकान से बाहर

बस एक दो ही क़दम और थे सफ़र वाले
थकान देख न पाई थकान से बाहर

निसाब दर्जा-ब-दर्जा यूँ ही बदलता है
हुआ न कोई भी इस इम्तिहान से बाहर

उसी की जुस्तुजू अक्सर उदास करती है
वो इक जहाँ जो है हर जहान से बाहर

नमाज़ियों से कहो देखें चाँद-सूरज को
निकल रहे हैं मुअज़्ज़िन अज़ान से बाहर

This Post Has One Comment

Leave a Reply