तरस रहा हूँ मगर तू नज़र न आ मुझको-दर्द आशोब -अहमद फ़राज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ahmed Faraz,

तरस रहा हूँ मगर तू नज़र न आ मुझको-दर्द आशोब -अहमद फ़राज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ahmed Faraz,

तरस रहा हूँ मगर तू नज़र न आ मुझ को
कि ख़ुद जुदा है तो मुझसे न कर जुदा मुझको

वो कँपकपाते हुए होंठ मेरे शाने पर
वो ख़्वाब साँप की मानिंद डस गया मुझको

चटक उठा हूँ सुलगती चटान की सूरत
पुकार अब तो मिरे देर-आश्ना मुझको

तुझे तराश के मैं सख़्त मुनफ़इल हूँ कि लोग
तुझे सनम तो समझने लगे ख़ुदा मुझको

ये और बात कि अक्सर दमक उठा चेहरा
कभी-कभी यही शोला बुझा गया मुझको

ये क़ुर्बतें ही तो वज्हे-फ़िराक़ ठहरी हैं
बहुत अज़ीज़ है याराने-बेवफ़ा मुझको

सितम तो ये है कि ज़ालिम सुख़न-शनास नहीं
वो एक शख़्स कि शाइर बना गया मुझको

उसे ‘फ़राज़’ अगर दुख न था बिछड़ने का
तो क्यों वो दूर तलक देखता रहा मुझको

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply