डरौना-नदी की बाँक पर छाया अज्ञेय-सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Sachchidananda Hirananda Vatsyayan Agyeya,

डरौना-नदी की बाँक पर छाया अज्ञेय-सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Sachchidananda Hirananda Vatsyayan Agyeya,

चिथड़े-चिथड़े
टँगा डरौना
खेत में

ढलते दिन की
लम्बी छाया
छुई-
कि बदला
जीते प्रेत में।

घिरी साँझ
मैं गिरा
अँधेरी खोह-
यादें-
लपका
बटमारों का एक गिरोह!

शरण वह
प्रेत डरौना
चिथड़े-चिथड़े।

नयी दिल्ली, 8 नवम्बर, 1979

Leave a Reply