जो ‘डलहौजी’ न कर पाया वो ये हुक्काम कर देंगे – समय से मुठभेड़-अदम गोंडवी- Adam Gondvi-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

जो ‘डलहौजी’ न कर पाया वो ये हुक्काम कर देंगे – समय से मुठभेड़-अदम गोंडवी- Adam Gondvi-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

जो ‘डलहौजी’ न कर पाया वो ये हुक्काम कर देंगे ।
कमीशन दो तो हिन्दुस्तान को नीलाम कर देंगे ।

सुरा औ’ सुन्दरी के शौक़ में डूबे हुए रहबर,
ये दिल्ली को रँगीलेशाह का हम्माम कर देंगे ।

ये वन्देमातरम् का गीत गाते हैं सुबह उठकर,
मगर बाज़ार में चीज़ों का दुगुना दाम कर देंगे ।

सदन में घूस देकर बच गई कुर्सी तो देखोगे,
ये अगली योजना में घूसखोरी आम कर देंगे ।

Leave a Reply