जुनून-ए-कारगर है और मैं हूँ-कविता -फ़िराक़ गोरखपुरी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Firaq Gorakhpuri

जुनून-ए-कारगर है और मैं हूँ-कविता -फ़िराक़ गोरखपुरी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Firaq Gorakhpuri

जुनून-ए-कारगर है और मैं हूँ
हयात-ए-बे-ख़बर है और मैं हूँ

मिटा कर दिल निगाह-ए-अव्वलीं से
तक़ाज़ा-ए-दिगर है और मैं हूँ

कहाँ मैं आ गया ऐ ज़ोर-ए-परवाज़
वबाल-ए-बाल-ओ-पर है और मैं हूँ

निगाह-ए-अव्वलीं से हो के बरबाद
तक़ाज़ा-ए-दिगर है और मैं हूँ

मुबारकबाद अय्याम-ए-असीरी
ग़म-ए-दीवार-ओ-दर है और मैं हूँ

तिरी जमइय्यतें हैं और तू है
हयात-ए-मुंतशर है और मैं हूँ

कोई हो सुस्त-पैमाँ भी तो यूँ हो
ये मातम रात भर है और मैं हूँ

निगाह-ए-बे-महाबा तेरे सदक़े
कई टुकड़े जिगर है और मैं हूँ

ठिकाना है कुछ इस उज़्र-ए-सितम का
तिरी नीची नज़र है और मैं हूँ

‘फ़िराक़’ इक एक हसरत मिट रही है
ये शाम-ए-बे-सहर है और मैं हूँ

This Post Has One Comment

Leave a Reply