जिंदगी को गर बसर करना है-तारिक़ अज़ीम तनहा-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tariq Azeem Tanha

जिंदगी को गर बसर करना है-तारिक़ अज़ीम तनहा-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tariq Azeem Tanha

जिंदगी को गर बसर करना है,
तो खुद पे इक नज़र करना है !

बदल दीजिए निज़ाम ए चमन,
गर पैदा कोई दीदावर करना है!

पहले जानने हैं शऊरे-शायरी,
फिर खुदको सुख़नवर करना है!

खुशबख्ती यूँ है आबाद अपनी,
जो तुझे नज़र पे नज़र करना है!

मुन्तशिर जान या जिद मेरी,
बहाकर आँखों से बहर करना है!

हमने जिन्हें की ज़मीने खैरात,
मकसद उनका हमे बेघर करना है!

आलम ऐतबार करे ‘तनहा’ का ,
खुदको ऐसा मोतबर करना है!

Leave a Reply