जल और जीवन-अंतर्यात्रा-परंतप मिश्र-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Parantap Mishra

जल और जीवन-अंतर्यात्रा-परंतप मिश्र-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Parantap Mishra

 

जीवन के रथ पर सतत प्रवाहित
कालचक्र के पहिये में घूमता
अवस्थाओं के चरणों में विभक्त
कौन है पहला और कौन आखिरी
कहना आसन न होगा
मानव भी जन्म मरण के चक्रों को
जीता है कई चरणों में
स्वरूप तो परिवर्तित होता है पर
कुछ है जो परे है
जो कभी नष्ट नहीं होता
अविनाशी, अविभक्त, काल से मुक्त
यात्रा किया करता है
जल की ही तरह
धरती के धैर्य और आकाश के ताप से
वाष्पित हो

उड़ चलता है हवाओं के साथ
आवारा बादल बन स्वत्रंत विचरण करते
किसी पर्वत की चोटी पर मुग्ध
सर्वस्व अर्पित कर
यात्रा की थकान से मुक्ति के लिए
घनीभूत हो कुछ समय का विश्राम
पुनः पिघल कर दौड़ पड़ती है
उस विशाल जलराशि में
स्वयम् की सत्ता को तिरोहित करने
पुनः प्रयाण की प्रतीक्षा में
जीवन के कालचक्र पर आरूढ़

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply