चिन्हवादी-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल) 

चिन्हवादी-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल)

घंटे आपने मोढ्यां नाल
रात दे काले जहाज़ नूं खिच्ची आ रहे हन ।
काल-कोठड़ी दी मरियल रौशनी विच
पानी दे छिट्टे पैंदे हन,
कैदी जहाज़ दे चमकदार चप्पूआं नाल
ढोह लाई बैठे गप्पां मारदे हन ।

“मैं जंगल ‘चों इक कुक्कड़ फड़्या सी
लाल-सूही कलगी वाला
कुक्कड़ ने किहा ;
‘मेरी गिच्ची ना मरोड़ीं’
मेरे चाकू ने उस दी जान-बख़शी कर दित्ती ।
पर इक ना इक दिन
मैं उस नूं मार के छड्डूं ।
आयो पैसे लायो ते रंग दा पत्ता सुट्टो ।”

“मैं वी जंगल ‘चों इक कुक्कड़ फड़्या सी
उस आपने अग्ग दे खंभ खोल्हे
ते मेरे हत्थां ‘चों अडोल उडारी मार ग्या ।”

साहमने बैठे पागल ने किहा, “निगरानी हेठ ?”
ते उह अग्ग दे खंभां वाले कुक्कड़ नूं
वाजां मारदा है
इंझ जिवें रात नूं चिन्हवादी चीकदा है ।

“मैं वी जंगल ‘चों इक कुक्कड़ फड़्या
कुक्कड़ ने किहा, ‘मेरी सिरी ना कट्टीं’
मेरी आवाज़ चुप्प हो गई ।
फिर आवाज़ इक चीक वांग उभरी ;
‘मेरे स्ट्ट ना मारीं’
अग्ग दी कलगी टुट्ट चुक्की है ।

पाग़ल हुन धरती ‘ते चौफ़ाल प्या सी
ते चिट्टे पजामें वाला संतरी
आपणियां मुच्छां टुकदा
पुलस वाली भारी पेटी दे नाल
मास दे ढेर नूं कुट्टी जा रिहा सी ।

मेरे लागे खलोता ‘हसन’
काळ-कोठड़ी दियां सीखां नूं फड़ीं
कहन लग्गा ;
वेखीं, पाग़ल नूं मारीं ना
मेरे कोलों दुगना रोड-टैकस लै लवीं
बेशक्क मैनूं इस बदबूदार मोरी विच
होर तिन्न महीने डक्की रक्खीं !’

मेरे दूसरे पासे बैठा यूसफ़
पीळा पै ग्या
ते उस दियां अक्खां
बारूद नाळ भरी बन्दूक दी नाळी
वरगियां हो गईआं ।

This Post Has One Comment

Leave a Reply