चिट्ठी पहलड़ी विच की लिखां तैनूं-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

चिट्ठी पहलड़ी विच की लिखां तैनूं-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

चिट्ठी पहलड़ी विच की लिखां तैनूं,
देवां की मैं एस नूं नां चन्नां ।
सुंञे सुंञे सभ्भे शहर जापदे ने,
जापन उजड़दे सभ गिरां चन्नां ।
तेरे गीत सभ्भे तेरे कोल रहे,
किस तों लै उधार हुण गां चन्नां ।
जान वेले मैं फड़ी ना घुट्ट वीणी,
एसे भुल्ल ते हुण पछतां चन्नां ।

ऐवें उलझ जे गए हां बिनां गल्लों,
की सोचीए कुझ ना सुझ्झदा ए ।
जद जद वी दीवे नूं बालदे हां,
खारे पाणियां दे नाल बुझ्झदा ए ।

Leave a Reply