चार आदमी, चार बोतलां-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल) 

चार आदमी, चार बोतलां-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल)

गोल मेज़ है
चार बोतलां
चार आदमी
ते वाईन दे चार गलास

गलासां विच वाईन है
गलास ख़ाली हुन्दे ने
गलास भरदे ने
चार आदमी पी रहे ने

इक बोतल ख़ाली हुन्दी है
इक आदमी बोलदा है ;
“कल्ल्ह मैं धमाके नाल,
मसला हल्ल करांगा,
छड्डो गल्ल नूं
फाहे लग्गना चाहीदा है उह बन्दा ।”

तिन्न बोतलां ख़ाली हन
तिन्न आदमी पींदे हन
तिन्न मूंह उत्तर दिन्दे हन,
बन्दा अवश्श फाहे लग्गेगा

गोल मेज़ है
चार खाली गलास ने
ते चारे आदमी ।

Leave a Reply