चारु चरित्री-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

चारु चरित्री-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

चारु चरित्री,
चित्रित भाषा,
मानवबोधी व्यंजक हो-
संज्ञानी प्रतिबिंबन वाली
अनुरागी,
अनुरंजक हो,
वस्तुपरक विवरण-बोधी भी
कुंठित काय
कठोर न हो,
परिमल पूरित
आत्मपरक हो,
झंझा
और झकोर
न हो।

रचनाकाल: ०६-०४-१९९१

 

Leave a Reply