चाँदनी से तरबतर-त्रिकाल संध्या-भवानी प्रसाद मिश्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bhawani Prasad Mishra

चाँदनी से तरबतर-त्रिकाल संध्या-भवानी प्रसाद मिश्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bhawani Prasad Mishra

 

चांदनी से तरबतर वह रात
वन के वृक्ष
वृक्षों पर सटी बैठी हुई
झंकारवन्ती झिल्लियाँ

सब याद है
फिर न उतना सुख
न इतना दुख मिले
फ़रियाद है

 

Leave a Reply