चन्न दीआं रिशमां तेरे बाझों हैन बिजलियां हो गईआं-गज़लें-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala

चन्न दीआं रिशमां तेरे बाझों हैन बिजलियां हो गईआं-गज़लें-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala

चन्न दीआं रिशमां तेरे बाझों हैन बिजलियां हो गईआं ।
तेरे राह वल्ल विंहदे विंहदे अक्खां झल्लियां हो गईआं ।

याद तेरी नूं याद सी कीता मन कुझ्झ हौला हो जावे ;
मन ने हौला की होना सी पलकां गिल्लियां हो गईआं ।

नज़र सरापी मेरी मैनूं कल्ल्ह पता ए चल्ल गिआ ;
कोइलां सी कलोल करदीआं कल्लियां कल्लियां हो गईआं ।

गीत मेरे ने जिद्द इह कीती राग तेरा मन मोंहदे ने ;
जेहड़े साज़ नूं वी हत्थ लाया तारां ढिल्लियां हो गईआं ।

सुपने विच्च रातीं तूं आया, आया वी इक्क पल दे लई ;
तूं आपे ही सोच ल्या इस नाल तसल्लियां हो गईआं ।

घरों तुरे सां तेरे दर वल्ल इको रसता जांदा ए ;
बाहर निकले अक्खां साहवें किन्नियां गलियां हो गईआं ।

Leave a Reply