घूमें घनश्याम स्यामा-दामिनी लगाए अंक-गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gayaprasad Shukla Sanehi

घूमें घनश्याम स्यामा-दामिनी लगाए अंक-गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gayaprasad Shukla Sanehi

घूमें घनश्याम स्यामा-दामिनी लगाए अंक,
सरस जगत सर सागर भरे- भरे ।
हरे भरे फूले-फले तरु पंछी फूले फिरें,
भ्रमर सनेही कालिकान पै अरे-अरे ।।
नन्दन विनिन्दक विलोकि अवनि की छवि,
इन्द्रवधू वृन्द आतुरी सौं उतरे तरे ।
हरे हरे हार मैं हरिन नैनी हेरि हेरि,
हरखि हिये मैं हरि बिहरैं हरे-हरे ।।

This Post Has One Comment

Leave a Reply