घट्ट हो पर तुच्छ ना समझो- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov) 

घट्ट हो पर तुच्छ ना समझो- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov)

सिर विदवान पती हिलावे दुक्ख विच व्याकुल हो के,
कवी, लेखक संताप भोगदे दिल विच दर्द संजोके ।
दुक्ख इन्हां नूं इहीयो है कि कासपी तट तों हटदा जाए,
हुन्दी जाए घट्ट गहराई इह नीवां हुन्दा जाए ।
इह बकवास है सारी मैनूं कदे कदे इंज लगदा,
बुढ्ढा कासपी घट्ट डूंघा हो’जे हो कदे नहीं सकदा,
तुच्छ हो रहे कुझ लोकां दे दिल इहीयो ही डर मैनूं,
बाकी सभ चीज़ां तों ज़्यादा, चिंतत व्याकुल करदा ।

Leave a Reply