गुर नानक दा थी-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

गुर नानक दा थी-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

अपना कोई नहीं है जी,
अपना कोई नहीं है जी,
गुर नानक दा थी वे बन्द्या !
गुर नानक दा थी ।१।

अपने सुख नूं मिलदे सारे,
घोली सदके जांदे वारे,
दुक्ख प्यां कोई आइ न दवारे,
सभ छड भजदे बुढ्ढे वारे,
अपना कोई नहीं है जी,
अपना कोई नहीं है जी,
गुर नानक दा थी वे बन्द्या !
गुर नानक दा थी ।२।

दरद रंञाण्यां दा उह मेली,
बुढ्ढे ठेर्यां दा उह बेली,
पुक्कर पैंदा औखे वेलीं,
खेड़ दए ज्युं फुल्ल चम्बेली,
अपना कोई नहीं है जी,
अपना कोई नहीं है जी,
गुर नानक दा थी वे बन्द्या !
गुर नानक दा थी ।३।

‘धन्न गुर नानक’ लल लगाईं,
‘धन्न गुर नानक’ दईं दुहाई,
‘गुर नानक’ ‘गुर नानक’ गाईं,
कदे ना तैनूं उह छड जाई,
गुर नानक दा थी वे बन्द्या !
गुर नानक दा थी ।४।

Leave a Reply