गुरू नानक नूं-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

गुरू नानक नूं-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

आ बाबा तेरा वतन है वीरान हो ग्या,
रब्ब दे घरां दा राखा मुड़ शैतान हो ग्या ।

‘कलयुग्ग है रत्थ अगन दा’, तूं आप आख्या,
मुड़ कूड़ ओस रत्थ दा, रथवान हो ग्या ।

जो ख़ाब सी तूं देख्या, वण थल्ले सुत्त्यां,
सोहना उह तेरा ख़ाब परेशान हो ग्या ।

उह मच्चे तेरे देश दी हिक्क ते उलंभड़े,
पंज-पाणियां दा पानी वी हैरान हो ग्या ।

उह झुलियां तेरे देश ते मारू हनेरियां,
उड के असाडा आहलना कक्ख कान हो ग्या ।

जुग्गां दी सांझी सभ्भिता पैरीं लितड़ गई,
सदियां दे सांझे खून दा वी नहान हो ग्या ।

वंड बैठे तेरे पुत्त ने सांझे सवरग नूं,
वंड्या सवरग नरक दा सम्यान हो ग्या ।

उधर धरम ग्रंथां ते मन्दरां दा जस ग्या,
एधर मसीतों बाहर है कुरआन हो ग्या ।

हन्दवाणियां, तुरकाणियां दोहां दी पत गई
बुरके संधूर दोहां दा अपमान हो ग्या ।

इक पासे पाक, पाकी, पाकिसतान हो ग्या,
इक पासे हिन्दू, हिन्दी, हिन्दुसतान हो ग्या ।

इक्क सज्जी तेरी अक्ख सी, इक्क खब्बी तेरी अक्ख,
दोहां अक्खां दा हाल ते नुकसान हो ग्या ।

कुझ ऐसा कुफ़र तोल्या ईमान वाल्यां,
कि कुफ़र तों वी हौला है ईमान हो ग्या ।

मुड़ मैदे बासमतियां दा आदर है वध्या,
मुड़ कोधरे दी रोटी दा अपमान हो ग्या ।

मुड़ भागोआं दे चादरीं छिट्टे ने ख़ून दे,
मुड़ लालोआं दे ख़ून दा नुचड़ान हो ग्या ।

फिर उच्यां दे महलां ते सोना मड़्ही रेहा,
फिर नीव्यां दी कुल्ली दा वी वाहन हो ग्या ।

‘उस सूर उस गाउं’ दा हक्क नाहरा लायआ तूं
इह हक्क पर नेहक्क तों कुरबान हो ग्या ।

मुड़ गाउने पए ने मैनूं सोहले ख़ून दे,
पा पा के कुंगू रत्त दा रतलान हो ग्या ।

तूं रब्ब नूं वंगार्या, तैनूं वंगारां मै:
“आया ना तैं की दरद ऐना घान हो ग्या ।”

Leave a Reply