गीत-पंजाबी कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

गीत-पंजाबी कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

किधरे ना पैंदियां दस्सां
वे परदेसिया तेरियां
काग उडावां शगन मनावां
वगदी वा दे तरले पावां
तेरी याद आवे ते रोवां
तेरा ज़िकर करां तां हस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
वे परदेसिया तेरियां

दर्द ना दस्सां घुलदी जावां
राज़ ना खोल्हां, मुकदी जावां
किस नूं दिल दे दाग़ दिखावां
किस दर अग्गे झोली डाहवां
वे मैं किस दा दामन खस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
वे परदेसिया तेरियां

शाम उडीकां, फ़जर उडीकां
आखें ते सारी उमर उडीकां
आंढ गवांढी दीवे बलदे
रब्बा साडा चानन घल्ल दे
जग वसदा ए मैं वी वस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
किधरे ना पैंदियां दस्सां
वे परदेसिया तेरियां

Leave a Reply