गिरगिट-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

गिरगिट-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

थानेदार ओचूमीलोव दे नवां-नकोर, वड्डा कोट सी पाया ।
हत्थ विच उस इक बंडल फड़्या, विच मंडी दे आया ।
उसदे पिछे लाल सिरा सिपाही, सी इक टुरदा आउंदा ।
रस भरियां दी टोकरी चुक्कीं, तेज़ी नाल कदम उठाउंदा ।
सुन्नसान मंडी विच सारे ना दिसे, किधरे कोई परछावां ।
शराबख़ाने, दुकानां गाहकां लई सी, अड्ड खलोते बाहवां ।
रब्ब दी रची इस दुनियां नूं उह, वेखन नाल उदासी ।
मंगता तक्क वी नहीं सी ओथे, ओस जगाह दा वासी ।

थानेदार दे कन्नां विच फिर, इक आवाज़ सी आई ।
“तूं कुतीड़ कट्टेंगा मैनूं, इहनूं जान ना देना भाई ।
कट्टन दी हुन एस जा ते, नहीं किसे आग्या कोई ।
फड़ीं रक्खो इहनूं तुसीं मुंड्यो, जिद्दां मुजरम कोई ।”
कुत्ते दी चऊं-चऊं सुणके, थानेदार ने उधर तक्क्या ।
तिन्न लत्तां ते कुत्ता आवे, इक वेहड़े ‘चों नट्ठ्या ।
उसदे पिच्छे बन्दा भज्ज्या बाहर नूं इक आया ।
ठेडा खा के डिग्ग्या पर कुत्ता लत्तों काबू आया ।
“इस नूं जान ना देईं,” आवाज़ किसे फिर मारी ।
उनींदे लोकीं बाहर झाकन, भीड़ जुड़ गई भारी ।
सिपाही आखे, “इउं लग्गदै झगड़ा कोई होया ।”
थानेदार भीड़ वल्ल मुड़्या, ते कोले आ खलोया ।
खुल्ल्हे बटन वासकट पाई इक बन्दा उसने तक्क्या ।
उंगली विचों ख़ून सी वहन्दा हत्थ उस उपर चक्क्या ।
उंगल उस दी जित्त दा झंडा लोकां ताईं सी लगदी ।
गाल्हां दिन्दे उसदे मूंहों शराब दी बो पई सी वगदी ।
थानेदार ने झट्ट पछाण्या उह खरीऊकिन सुन्यारा ।
भीड़ विचाले लत्तां पसारी प्या सी मुजरम बेचारा ।
सरीर उसदा ठंढ ते डर नाल कम्ब रेहा सी पूरा ।
तिक्खे नक्क ते चिट्टे रंग वाला उह ‘बोरज़ोई’ कतूरा ।

मोढे मारके राह बणाउंदा थानेदार अग्गे आया ।
“इह सारा कुझ की हो रेहै, कौन सी जो चिल्लाया ?
तूं एथे दस्स की कर रेहैं, की तुसीं झगड़ा पाया ?
तूं उंगल उत्ते क्युं चुक्की ?” उहने आ पुछाया ।
सुन्यारा मुट्ठी विच खंघ्या, फिर गल्ल उस कीती ।
“मैं सां लेले वांगूं आउंदा बिलकुल चुप-चुपीती ।
मितरी मितरिच नाल लक्कड़ दा कंम सी मेरा कोई ।
पता नहीं क्युं इस कुतीड़ ने मेरे चक्क वढ्योई ।
मैं कंम करन वाला हां बन्दा उंगल बिना नहीं सरना ।
मेरा कंम बड़ा तकनीकी हुन मैं इह किदां करना ।
मैनूं तुसीं इवजाना दिवायो कानून्न दा वी इह कहना ।
कुत्ते एदां वढ्ढन लग्ग पए औखा होजू जग्ग विच रहना ।”
खंघूरा मारके रुअब नाल फिर थानेदार इह पुछदा ।
“हूं.. अच्छा, कीहदा इह कुत्ता ? पता दियो मैनूं उसदा ।
मैं गल्ल एथे नहीं छड्डणी, लोकां नूं इह दिखाउना ।
समां आ गिऐ अजेहे लोकां नूं पैना सबक सिखाउना ।
जो नियमां नूं तोड़न उन्हां नूं जुरमाना करना भारा ।
उस बदमाश नूं मैं सिखाउना कुत्ता जीहदा अवारा ।
येलदीरिन, तूं पता लगा कुत्ता है इह किसदा ?
लिख ब्यान, फिर कुत्ते वाला वढ्ढना पैना फसता ।
हो सकदै कुत्ता हलकाया होवे मरना इसदा चंगा ।
इह कुत्ता कीहदा मैं पुछदा, कोई दस्सो उह बन्दा ?”

“जरनैल ज़ीगालोव दा कुत्ता,” आवाज़ किसे दी आई ।
“येलदीरिन, मेरा कोट लुहाईं, किन्नी गरमी भाई ।
मैनूं हुन इंज है लग्गदा बरसात आई कि आई ।”
फिर सुन्यारे वल्ल मुड़्या, कहे, “समझ नहीं आई ।
इस कुत्ते ने तैनूं किदां वढ्ढ्या तेरी ऐनी उचाई ।
इह बेचारा निक्का जेहा कुत्ता तूं उठ जेड प्या ई ।
तूं किल्ल नाल छिलवाई उंगली फिर सकीम बणाई ।
सट्ट जो इह लग्ग ही गई ए करीए इहतों कमाई ।
मैं जाणदां तेरे वरग्यां नूं, सारी बदमाशां दी ढानी ।”
सिपाही बोल्या, “शरारतां करन दी आदत इहदी पुरानी ।
बलदी सिगरट मज़ाक नाल इस ने नक्क कुत्ते दे उते लाई ।
उसने ताहीउं चक्क वढ्ढ खाधा इसनूं, हुन पावे हाल दुहाई ।”
सिपाही दी इस हरकत उे्ेते सुन्यारे ने खाधा गुस्सा ।
“झूठ ना मारी जा ओए काण्यां, तूं मैनूं कद डिट्ठा ।
जनाब हैन स्याणे-ब्याणे, झूठ ना चलदा इन्हां कोले ।
कौन झूठा इह सभ कुझ समझन, कौन रब्बी सच्च बोले ।
मेरे उत्ते मुकदमा चल्लायो, जे मैं कोई झूठ अलावां ।
मेरा भाई वी विच पुलस दे, तैनूं इह समझावां ।”

सिपाही गंभीर होइके आखे, “इह नहीं उन्हां दा कुत्ता ।
जरनैल साहब दे कुत्ते सभ शिकारी मैनूं पता ए पक्का ।”
“मैनूं आप इह लगदा उहनां दे कुत्ते सभ नसली ने ।
सारे महंगे मुल्ल दे ने ते सारे दे सारे असली ने ।
इस कुतीड़ वल्ल तां वेखो खुरक-मार्या ते बदसूरत ।
जरनैल साहब नूं इह रक्खन दी केहड़ी पई ज़रूरत ।
जे कोई ऐसा कुत्ता मासको जां पीटरसबरग विच्च दिस्से ।
पतै उस नाल की होवेगा हर कोई पवेगा उहदे पिच्छे ।
कानून्न तों बेपरवाह हो के सारे उहनूं मार छड्डणगे ।
पिच्छों जो हुन्दै हो जावे पहलां फसता उसदा वढ्ढणगे ।
खरीऊकिन तैनूं इस वढ्ढिऐ इह गल्ल भुल्ल ना जाना ।
समां आ गिऐ इहदे मालिक नूं पैना सबक सिखाना ।”

फिर ख़्याल आपना उच्च आवाज़े दस्स्या ओस सिपाही,
“शायद इह कुत्ता सच्चीं मुच्चीं किते होवे ना उन्हां दा ही ।
वेखन नाल ही कोई कुत्ते दा कदे मालक दस्स सक्या ए ।
कुझ दिन होए उहनां दे वेहड़े मैं ऐसा कुत्ता तक्क्या ए ।”
भीड़ विचों वी आवाज़ इह आई, ” इह उन्हां दा कुत्ता ।”
इह गल्ल सुणके थाणेदार वी मुड़के, हो ग्या दो-चित्ता ।
“येलदीरिन, मेरे कोट पुआईं, बुल्ला हवा दा आया ।
इह बुल्ला वेख किन्नी ठंढक है आपने नाल ल्याया ।
इह कुत्ता आपने नाल लै के तूं जरनैल साहब दे जावीं ।
इस नूं मैं ही लभ्भ के भिजवायऐ उहनां नूं दस्स आवीं ।
इस कुत्ते नूं ऐवें गली विच्च छड्डना है नहीं मूलों चंगा ।
मतां इह कीमती कुत्ता विगड़के बण ही ना जावे गन्दा ।
हर मूरख आपनी बलदी सिगरट इस दे नक्क च वाड़े ।
कुत्ता बड़ी नाज़ुक चीज़ है हुन्दी मत सिगरट इसनूं साड़े ।
..आपना हत्थ हेठां क्युं नहीं करदा उल्लू दे पट्ठे सुन तूं ।
आपनी गन्दी उंगल लोकां नूं दिखाउना बन्द करदे हुन तूं ।”

“औह वेखो, रसोईआ साहब दा परोखोर है आया ।
बज़ुरगा पछान इह कुत्ता तुसां ते नहीं गुआया ।”
“कोई होर गल्ल करो, तुसां इह केहो जेही गल्ल पुच्छी ।
इहो जेही कुतीड़ सारी ज़िन्दगी असां कदे नहीं रक्खी ।”
थाणेदार विचों ही बोल्या, “होर पुच्छन दी लोड़ ना कोई ।
इस कुत्ते नूं मारो हुन गोली, गल्ल समझो ख़तम इह होई ।”
परोखोर अग्गों फिर दस्स्या, “गल्ल अजे ख़तम नहीं होई ।
जरनैल साहब दे भाई नूं बहुत पसन्द ने कुत्ते ‘बोरज़ोई’ ।”
इह सुन थानेदार दे चेहरे उत्ते मुसक्राहट भर आई।
“सच्चीं आए होए ने, कदों दे जरनैल साहब दे भाई ।
ज़रा सोचो उह आए होए ने ते मैनूं ख़बर नहीं काई ।
की उह ठहरनगे जां नहीं ? तूं मैनूं दस्स मेरे भाई ।”
परोखोर ने ‘हां’ कही ते थाणेदार ने गल्ल जारी रक्खी,
“इह कुत्ता उहनां दा मैनूं किसे नहीं गल्ल दस्सी !
इस नूं चुक्क लै, किन्ना सुन्दर इह निक्कू जेहा कतूरा ।
जिसदी उंगल नूं इस चक्क मारिऐ, उह है बेशऊरा ।”
परोखोर कुत्ते नूं पुचकार्या कुत्ता उसदे पिच्छे तुर्या ।
भीड़ खड़ोती सभ हस्सन लग्गी सुन्यारा बह झुर्या ।
“मैं अजे तैनूं फेर वेखांगा,” थानेदार ने दित्ता डराबा ।
वड्डा कोट आपना लपेट के मंडी विचों उह टुर ग्या ।

( रचना अनतोन चैख़ोव दी कहाणी  ‘गिरगिट’ दे करनजीत सिंघ दे  कीते अनुवाद दा कावि-रूप है )

This Post Has One Comment

Leave a Reply