गले से दिल के रही यूँ है ज़ुल्फ़-ए-यार लिपट-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

गले से दिल के रही यूँ है ज़ुल्फ़-ए-यार लिपट-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

गले से दिल के रही यूँ है ज़ुल्फ़-ए-यार लिपट
कि जूँ सपेरे की गर्दन में जाए मार लिपट

मज़े उठाते क़मर-बंद की तरह से अगर
कमर से यार की जाते हम एक बार लिपट

हमारे पास वो आया तो खोल कर आग़ोश
ये चाहा जावें हम उस से ब-इंकिसार लिपट

वहीं वो दूर सरक कर इताब से बोला
हमारे साथ न हो कर तू बे-क़रार लिपट

हमें जो चाहें तो लपटें ‘नज़ीर’ अब वर्ना
तू चाहे लिपटे सो मुमकिन नहीं हज़ार लिपट

This Post Has One Comment

Leave a Reply