खेल-खेल में उड़ा-कविताएँ-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

खेल-खेल में उड़ा-कविताएँ-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

 

खेल-खेल में उड़ा,
पहुँचा-
फट गया-
आकाश में
रंगीन गुब्बारा खुशी का।

जिसने
उड़ाया
आकाश में पहुँचाया
वह हुआ
फिर
गरीब बाप का
गरीब बेटा-
दुःख दर्द का चहेटा।

रचनाकाल: १८-१२-१९७९

 

Leave a Reply