ख़ुद मैं ही गुज़र के थक गया हूँ-गुमाँ-ग़ज़लें-जौन एलिया -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaun Elia

ख़ुद मैं ही गुज़र के थक गया हूँ-गुमाँ-ग़ज़लें-जौन एलिया -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaun Elia

ख़ुद मैं ही गुज़र के थक गया हूँ
मैं काम न कर के थक गया हूँ

ऊपर से उतर के ताज़ा-दम था
नीचे से उतर के थक गया हूँ

अब तुम भी तो जी के थक रहे हो
अब मैं भी तो मर के थक गया हूँ

मैं या’नी अज़ल का आर्मीदा
लम्हों में बिखर के थक गया हूँ

अब जान का मेरी जिस्म शल है
मैं ख़ुद से ही डर के थक गया हूँ

Leave a Reply