खंजर अते कुमज़- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov) 

खंजर अते कुमज़- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov)

इक गभ्भरू दर्ररे दे पिछे
रहन्दा सी परबत दे उत्ते
अंजीर दा रुक्ख ते दूजा खंजर
बस्स, इही सन उहदा कुल्ल ज़र ।

इक सी बक्करी उहदे कोल
रोज़ चरावे जा के बण
इक दिन किसे खान दी बेटी
वस्स गई आ के उहदे मन ।

उह गभ्भरू सी शेर स्याणा
डोले लई किहा खान नूं जा के
हस्स्या खान गभ्भरू दी सुन के
दिता जुआब साफ़ उलटा के ।

“इक रुक्ख ते खंजर दा मालक
जाह, मूंह धो रक्ख आपना जा के ।
कढ्ढ्या कर धार बक्करी दी
‘राम नाल आपने घर जा के ।”

धी दित्ती उस खान ने उहनूं
कोल जेहदे सन ढेरां मोहरां ।
चरदियां रहन चरांदां अन्दर
भेड बक्करियां इज्जड़ ढेरां ।

ग़मां विच डुब्ब ग्या उह गभ्भरू
दिल दा चूरा चूरा होया ।
बिरह-तड़प विच तड़प के उहने
खंजर हत्थ विच चुक्क ल्या ।

पहलों उहने बक्करी वढ्ढी
वढ्ढ दित्ता फिर रुक्ख उह जा के ।
जेहनूं प्यार नाल सी लायआ
कीता वड्डा सिंज सिंजा के ।

रुक्ख दा उस कुमुज़ बणायआ
बना के कीता वाजा त्यार ।
बकरी दियां उस लै के आदरां
उते चढ़ाई तार ।

वाजे दी ज्युं तार उस छेड़ी
सुर इक ऐसा निकल्या
धरम गरंथ दा शबद ज्युं होवे
होवे ज्युं कोई सुरग-कला ।

इह महबूबा होए ना बुढ्ढी
है उदों तों उहदे कोल
कुमुज़ ते खंजर दो खज़ाने
बस इही ने जेहदे कोल ।

पिंड सदा ही धुन्द च घिरिया
उतांह, चट्टानां उत्ते
कुमुज़ ते खंजर लटक रहे ने
नालो नाल ही उत्थे ।

Leave a Reply