क्या भला शैख़-जी थे दैर में थोड़े पत्थर-इंशा अल्ला खाँ ‘इंशा’ -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Insha Allah Khan Insha

क्या भला शैख़-जी थे दैर में थोड़े पत्थर-इंशा अल्ला खाँ ‘इंशा’ -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Insha Allah Khan Insha

क्या भला शैख़-जी थे दैर में थोड़े पत्थर
कि चले काबा के तुम देखने रोड़े पत्थर

ऐ बसा कोहना इमारात-ए-मक़ाबिर जिन के
लोगों ने चोब-ओ-चगल के लिए तोड़े पत्थर

जाओ ऐ शैख़ ओ बरहमन हरम-ओ-दैर को तुम
भाई बेज़ार हैं हम हम ने ये छोड़े पत्थर

कभी दिल-हा-ए-बुताँ तुझ से पसीजें ऐ अश्क
तो ये हम जानें कि बस तू ने निचोड़े पत्थर

न चिरे नोक से नश्तर के आयाज़म-बिल्लह
कोई उश्शाक़ के थे छाती के फोड़े पत्थर

कोस बैठें फ़ुक़रा अहल-ए-दुवल को तो अभी
उन के हाथी हों पहाड़ और ये घोड़े पत्थर

गर सग-ए-गुरसिना ले शूम के मतबख़ की बास
तो भला हड्डी की जा क्या वो भंबोड़े पत्थर

न हिंसा मैं जो हँसाने से शब उन की तो कहा
तुझे क़ुर्बान करूँ हाए निगोड़े पत्थर

एक ग़ज़ल और सुना दे हमें ‘इंशा’ हर-चंद
तू ने इस में भी किसी ढब के न छोड़े पत्थर

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply