कौन याँ साथ लिए ताज-ओ-सरीर आया है -ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

कौन याँ साथ लिए ताज-ओ-सरीर आया है -ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

 

कौन याँ साथ लिए ताज-ओ-सरीर आया है
याँ तो जो आया है पहले सो फ़क़ीर आया है

इश्क़ लाया है फ़क़त एक ही सीने की सिपर
हुस्न बाँधे हुए सौ तरकश-ओ-तीर आया है

कल किसी शख़्स ने उस शोख़ से जा कर ये कहा
आज दर पर तिरे इक आशिक़-ए-पीर आया है

पुश्त ख़म-कर्दा असा हाथ में गर्दन हिलती
ज़ोफ़-ए-पीरी से निहायत ही हक़ीर आया है

सुन के ये शक्ल-ओ-शबाहत तेरी उस शोख़ ने आह
वहीं मालूम क्या ये कि ‘नज़ीर’ आया है

Leave a Reply