कोई मेरे नाल केहो जेही कर गिआ-गज़लें-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala

कोई मेरे नाल केहो जेही कर गिआ-गज़लें-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala

कोई मेरे नाल केहो जेही कर गिआ ।
झलक विखा के आपणी नींदर हर गिआ ।

केहड़े दिल दे खूंजे सांभां याद तेरी ;
दिल सारे दा सारा सोचीं भर गिआ ।

उसदे पिच्छे जान तली ‘ते कौन धरे ;
थोढ़ी देर दे बाद कहे जो सर गिआ ।

शायद कितों सी कच्ची नींह विशवास दी ;
चार कणियां दे पैन ते जो खर गिआ ।

सुपने विच्च मैं तक्क्या तैनूं आउंदियां ;
सुबह तेरे दर गए तूं होर दे घर गिआ ।

Leave a Reply