कैसपियन सागर-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल) 

कैसपियन सागर-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल)

दिसहद्दे तों दिसहद्दे तीक
झग्गदार जामनी रंग दियां छल्लां
दौड़दियां हन
अग्गड़ पिच्छड़ ।

कैसपियन सागर
वहशी हवा दी भाषा विच
गल्लां करदा है,
गल्लां करदा ते उब्बलदा ।

किहने किहा सी, “चोरट वाज़मी” ।
उस झील वांग
जेहड़ी कैसपियन सागर
विच डुब्ब मर्दी है ।

बेमुहारा, लूणा, असीम, बेघरा
कैसपियन सागर
दोस्त घुंमदे ने
दुश्मन अवारा-गर्दी करदे ने

समुन्दरी-छल्ल इक पहाड़ है
किशती इक वछेरी
लहर इक पहाड़ी चश्मा है
किशती इक ठूठा ।
सीख-पौ होए घोड़े दी पिट्ठ तों
किशती थल्ले डिग्गदी है ।

पिछलियां लत्तां ‘ते खलोते
घोड़े दी पिट्ठ तों
बेड़ी उतांह उट्ठदी है
कदे उप्पर उट्ठदी है
कदे हेठां डिग्गदी है ।
ते तुरकी माहीगीर
पतवार संभाली
लत्त ‘ते लत्त रक्खी, अडोल बैठा है ।

सिर ‘ते फ़र दी टोपी
वड्डी, काली,
क्या बात है टोपी दी ।
लेले दी छाती दी खल्ल तों बनी टोपी
सिर ‘ते टिकाई
लेले दी खल्ल उसदियां
अक्खां ‘ते पैंदी है ।

बेड़ी उतांह उट्ठदी है
फिर हेठां डिग्गदी है ।

पर इह ना समझो कि उह
कैसपियन सागर नूं
नमसकार कर रिहा है ।
महातमा बुद्ध दी अडोलता वांग
इकागर,
मलाह नूं आपने आप ‘ते पूरा विशवास है,
उह बेड़ी वल्ल तक्कदा ही नहीं
ना हउके भरदे पाणियां वल्ल ही ।
टकराउंदे, चीरदे पाणियां वल्ल ।

डिगदे होए घोड़े दी पिट्ठ तों
किशती हेठां तिलकदी है
पर तक्को !
उत्तर-पच्छमी पौन किन्नी तेज़ वग रही है
वेखो, सागर दियां चलाकियां
तुहानूं लै डुबणगियां
खेडां खेडदियां कप्पर-छल्लां
बाज़ी मात पा देणगियां ।

हे मनुक्ख ! प्रवाह ना करीं । हवा नूं वगन दे
पाणियां नूं ‘शां शां’ करन दे ।
सागर कंढे वस्सदे लोकां दी
कबर पानी विच ही बणदी है ।

बेड़ी उतांह जांदी है
बेड़ी हेठां उतरदी है
कदे उत्ते,
कदे थल्ले
उप्पर-थल्ले…

Leave a Reply