किस के लिए कीजिए जामा-ए-दीबा-तलब-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

किस के लिए कीजिए जामा-ए-दीबा-तलब-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

किस के लिए कीजिए जामा-ए-दीबा-तलब
दिल तो करे है मुदाम दामन-ए-सहरा-तलब

काम रवा हों भला उस से हम अब किस तरह
उस को तमन्ना नहीं हम हैं तमन्ना-तलब

किस से कहीं क्या करें है ये तमाशा की बात
वो तो है पर्दानशीं हम हैं तमाशा-तलब

कहिए तो किस किस के अब ग़ौर करे वो तबीब
जिस के तलबगार हों लाख मुदावा-तलब

एक तमन्ना हो तो यार से कहिए ‘नज़ीर’
दिल है पुर-अज़- आरज़ू कीजिए क्या क्या तलब

Leave a Reply