कागज की नावें-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

कागज की नावें-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

 

कागज की नावें हैं तैरेंगी तैरेंगी,
लेकिन वह डूबेंगी डूबेंगी डूबेंगी॥

रचनाकाल: ०५-१०-१९५७

 

Leave a Reply