क़िता-ये कहते हैं कि आशिक छूट जाता है अज़ीयत से-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

क़िता-ये कहते हैं कि आशिक छूट जाता है अज़ीयत से-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

ये कहते हैं कि आशिक छूट जाता है अज़ीयत से
जब उसकी उम्र को लश्कर अजल का आनकर लूटे

हमारी रूह तो फिरती माशूक़ों की गलियों में
”नज़ीर” अब हम तो मर कर भी न इस जंजाल से छूटे

 

Leave a Reply