कविता -महादेवी वर्मा-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mahadevi Verma Part 1

कविता -महादेवी वर्मा-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mahadevi Verma Part 1

कहाँ रहेगी चिड़िया

कहाँ रहेगी चिड़िया?

आंधी आई जोर-शोर से,
डाली टूटी है झकोर से,
उड़ा घोंसला बेचारी का,
किससे अपनी बात कहेगी?
अब यह चिड़िया कहाँ रहेगी ?

घर में पेड़ कहाँ से लाएँ?
कैसे यह घोंसला बनाएँ?
कैसे फूटे अंडे जोड़ें?
किससे यह सब बात कहेगी,
अब यह चिड़िया कहाँ रहेगी ?

 आओ प्यारे तारो आओ

आओ, प्यारे तारो आओ
तुम्हें झुलाऊँगी झूले में,
तुम्हें सुलाऊँगी फूलों में,
तुम जुगनू से उड़कर आओ,
मेरे आँगन को चमकाओ।

 स्वप्न से किसने जगाया (वसंत)

स्वप्न से किसने जगाया?
मैं सुरभि हूँ।

छोड़ कोमल फूल का घर
ढूँढती हूं कुंज निर्झर।
पूछती हूँ नभ धरा से-
क्या नहीं ऋतुराज आया?

मैं ऋतुओं में न्यारा वसंत
मै अग-जग का प्यारा वसंत।

मेरी पगध्वनि सुन जग जागा
कण-कण ने छवि मधुरस माँगा।
नव जीवन का संगीत बहा
पुलकों से भर आया दिगंत।

मेरी स्वप्नों की निधि अनंत
मैं ऋतुओं में न्यारा वसंत।

 अबला

आता है अब ध्यान कभी हम भी थीं देवी ।
उन्नति गौरव रहे हमारे ही पद सेवी ।।
अधिकृत हमसे हुई शक्तियां सारी दैवी ।
पाती थीं हम मान बनी वसुधा की देवी ।।
शोभित हमसे हुई भूमि भारत की पावन ।
सुरभित हमसे हुआ प्रकृति उद्यान सुहावन ।।
नलिनी सम हम रहीं विश्व-सर बीच लुभावन ।
मंडित हमने किया मातृ का सुंदर आनन ।।
विद्या विद्याधरी सुगुण मंडित कमला सी ।
दुर्गासिंहारूढ़ वीर जननी विदुला सी ।।
सीता सी पतिव्रता प्रेम प्रतिमा विमला सी ।
थी हम ही में हुयी सुभारत कीर्ति कला सी ।।
आज हमारी दशा हुई हा ! अनवत दीना ।
क्षमता समता गई हुईं हम गौरव हीना ।।
कीर्ति कौमुदी हुई राहु से ग्रसित मलीना ।
जीवन का आदर्श दैव निष्ठुर ने छीना ।।
ज्ञान तजा अज्ञान हृदय में आन बसाया ।
अपना पहिला स्वत्व और कर्तव्य भुलाया ।।
पहिला स्वर्गिक प्रेम नेम हमने बिसराया ।
निष्प्रभ जीवन हुआ मान-सम्मान गंवाया ।।

क्या है अपनी दीन-हीन अवनति का कारण ।
क्यों हमने कर लिया कलेवर उलटा धारण ।।
क्यों अब करती नहीं सत्य पर जीवन वारण ।
सोचो तो हे बंधु देश के कष्ट निवारण ।।
शेष न गौरव रहा न पहिले सी समता है ।
शुष्क हुआ वह सुमन न पहिली कोमलता है ।।
रत्न हो गया काँच न वैसी मंजुलता है ।

समझो इसका हेतु बंधु तव निर्दयता है ।।
प्यासे मृग के हेतु लखो मृगतृष्णा जैसी ।
अगम सिंधु के बीच भीत बालू की जैसी ।।
राज्य-भोग की प्राप्ति स्वप्न में सुखकर जैसी ।
बिना हमारा साथ देश की उन्नति वैसी ।।

आओ निद्रा छोड़ ज्ञान के नेत्र उघारें ।
अपना-अपना आज सत्य कर्तव्य विचारें ।।
परिवर्तित हो स्वयं देश का कष्ट निवारें ।
सत्यव्रती बन मातृ-भूमि पर लोचन वारें ।।
दिखला देवें आज हमीं सुखदा कमला हैं ।
निश्छल महिमा-मूर्ति सत्य-प्रतिमा सरला हैं ।।
जीवन पथ पर स्थिर सभी विधि हम सबला हैं ।
धर्म-भीरुता हेतु बनी केवल अबला हैं ।।

(‘चाँद’, जनवरी, 1923 ई.)

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply