कविता-पहलां कंम ते कंम तों बाअद आए आराम ।- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov) 

कविता-पहलां कंम ते कंम तों बाअद आए आराम ।- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov)

पहलां कंम ते कंम तों बाअद आए आराम ।
सैना कूच करे, फिर दस मिंट लई विशराम ।
तूं मेरे लई दोवें-कूच अते विशराम
तूं मेरे लई दोवें-मेहनत अते आराम

तूं लोरी सैं, जिस सी मैनूं सहलायआ ।
बीरता अते बहार दे सुपन च तेरी छायआ ।
प्यार मेरे दी तूं हाणी; ते प्यार मेरा
जनम्या सी जद मैं सां दुनियां ते आया ।

बच्चा सां तां, लगदा सी, तूं मां मेरी
हुन तूं ज्युं महबूब; ते जद बुढ्ढा होया,
तां तूं ख़्याल रखेंगी प्यारी धी वांगूं
चमकेंगी बण याद तूं, जद मैं ना रिहा ।

कदी कदी जापे तूं कोई अपहुंच सिखर
कदी तूं जापें सहकदा पंछी, रख्या घर ।
तूं खंभ बणें मिरे, मैं जद उड्डना चाहां
तूं मेरा हथ्यार बणें जद युध करां ।
सिवाए चैन दे, कविता ! तूं सभ कुझ मेरी,
वफादार परेमी वांग सेवा करां तेरी ।

किथे कंम दा अंत, ते किथे शुरू आराम ?
किथे कूच ते किथे दस मिंट दा विशराम ?
तूं मेरे लई दोवें-कूच अते विशराम
तूं मेरे लई दोवें-मेहनत अते आराम

Leave a Reply