कली-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

कली-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

साडी उमर बीतदी जांदी छेती मिलजा तूं ;
की पता है आउना जां नहीं फेर दुबारा ।

असीं तां जंम पए सी सज्जणां झंग स्यालां दे ;
तैथों अजे तक्क ना बण्यां वतन हजारा ।

रात सी काली बोली बिजली चमकी तक्की जां ;
लोकी आखन तेरे हासे दा लिशकारा ।

कल्ल्ह सी पंडत कोई राह दसदा रब्ब मिलने दा ।
रमज़ां इशक दीआं की जाने उह विचारा ।

खुल्हे वाल अक्खां तों आपे चुक्के जांदे ने ;
हुण्दा आस तेरी दा मैनूं जदों इशारा ।

घुंमणघेरियां आ के ग़म दीआं मैनूं घेरदीआं ;
तारा याद तेरी दा दस्से आ किनारा ।

तेरे शहर वल्लों जो राह एधर नूं आउंदे ने ;
तक्क के उन्हां वल्ले वक्त लंघांवां सारा ।

महियां रोज चरदीआं बन्नें बन्नें वेखां जां ;
साहवें आवे तक्क्या होया कोई नज़ारा ।

तेरे शहर दीआं गलियां किद्दां भुल्ल जावां मैं ;
पाणी डुल्हआ सी जित्थे अक्खां दा खारा ।

 

Leave a Reply