कला-2-शरीर कविता फसलें और फूल-भवानी प्रसाद मिश्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bhawani Prasad Mishra

कला-2-शरीर कविता फसलें और फूल-भवानी प्रसाद मिश्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bhawani Prasad Mishra

 

कोई अलौकिक ही
कला हो किसी के पास
तो अलग बात है

नहीं तो साधारणतया
कलाकार को तो
लौकिक का ही सहारा है

लौकिक के सहारे
लोकोपयोगी रचना ही
करनी है

और ऐसा करते-करते
जितनी अलौकिकता आ जाए
उतनी अपने भीतर भरनी है

कई लोग
लोगों को किसी
खाई की तरफ़ ले जाएँ

ऐसी कुछ चीज़ें
अलौकिक कला कहकर
रचते हैं

मगर इस तरह
न लोक बचता है
न वे बचते हैं

सब कुछ विकृत
होता है
उनकी कृतियों से

ख़ुद भी मरते-मरते
भयभीत होते हैं वे
अपनी रचना की स्मृतियों से !

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply