कनकौए और पतंग (निर्जला)-मेले खेल तमाशे -नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

कनकौए और पतंग (निर्जला)-मेले खेल तमाशे -नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

यां जिन दिनों में होता है आना पतंग का।
ठहरे हैं हर मकां में बनाना पतंग का।
होता है कसरतों से मांगना पतंग का।
करता है शाद दिल को उड़ाना पतंग का।
क्या! क्या! कहूं मैं शोर मचाना पतंग का॥1॥

उड़ना दोबाज का है वह शोख़ी की दस्तगाह।
देखे तो बाज़ जु़र्रे को हो इसकी दिल से चाह।
शिकरे की बाज़ आवे न उस जा कभी निगाह।
बहरी कुही भी देख यह कहती हैं वाह-वाह।
ऐसा है नाज़ो हुस्न दिखाना पतंग का॥2॥

हर लहज़ा इस बहार से उड़ता है ललपरा।
बुलबुल समझ के गुल जिसे हो जावे मुब्तिला।
घायल के उड़ने की भी सिफ़त अब कहूं मैं क्या।
घायल जो इश्क़ के हैं यह कहते हें बरमला।
है दिल में खू़ब शौक़ बढ़ाना पतंग का॥3॥

उड़ना लंगोटिये का है ऐसा कुछ अर्जुमन्द।
गोशे से जिसको देखने आवे लंगोट बन्द।
और चांद तारे की भी चमक चांद से दो चन्द
उड़ना पहाड़िये का भी है इस क़दर बुलन्द।
उखड़े तो फिर फ़लक पै हो पाना पतंग का॥4॥

हैं मौज दरिया की भी कुछ ऐसी चढ़ाइयां।
मौजें गोया खु़शी के तलातुम में आइयां।
बूयें इलाएचे की हवा में समाइयां।
झंडी को देखे तो कुछ ऐसी उंचाईयां।
मुश्किल है वां से जाके फिर आना पतंग का॥5॥

बगले के उड़ने में भी वह खू़बी है आश्कार।
मछली निगाह की देख के हो जिसको बेक़रार।
पन्ने केमोल का भी दो पन्ना है खु़श निगार।
धय्यड भी अबलके़ को चढ़ाता है बार बार।
चंचल पन इस क़दर है जताना पतंग का॥6॥

उड़ना गिलहरिये का भी मैं क्या करूं बयां।
देखें दरख़्त पर जिसे चढ़कर गिलहरियां।
और है दुधारिये की भी कुछ और आनबां।
हैरां हो जिससे तेगे़ निगाहें परीरुखां।
फिर किस तरह न दिल हो दिवाना पतंग का॥7॥

उड़ता है इस तरीक़ से है वह जो मांग दार।
होता है जिसपे गौहरे दिल देख कर निसार।
ख़रबूज़िये की कांप का झुकना यह लाल दार।
और पेंदी पान की भी कुछ इस तौर की बहार।
गोया हवा में गुल है खिलाना पतंग का॥8॥

बमना भी अपनी देता है जिस वक़्त खूबी खोल।
निकले हैं वाह-वाह के हर इक जुबां से बोल।
और है दो कोनिये की भी इक-इक अदा अमोल।
उड़ता है कुलसिरे में भी शीराज़ियों का ग़ोल।
जीधर है नोक झोक दिखाना पतंग का॥9॥

चुपके भी वस्फ़ करने में चुपका रहूं मैं क्या।
शर्मिन्दा हो कबूतरे चुप जिस से दायमा।
ग़ायब है ककड़ी उड़ने पे ककड़ी का मर्तबा।
चौकन्नी चुरचलें हों उड़े जबकि चौघड़ा।
इस ज़ोर से हवा पे है जाना पतंग का॥10॥

उड़ते हैं इस हिजूम से कनकौए चमचके।
कौआ पकड़ने से गोया कौए हैं उड़ रहे।
छोटी भी तुक्कल ऐसी कि नख़ से फ़क़त उड़े।
झंझाव हैं मढ़ाव में कुछ इस क़दर बड़े।
लाज़िम है गर कहीं उन्हें लाना पतंग का॥11॥

महबूब भी उड़ाते हैं इस ढब से तुक्कलें।
जिनकी अदाओं आन दिलों की कलें छलें।
मिलने से दस्तो पा के जो गै़रों से दिल मिलें।
अश्शाक़ क्यों न रश्क से फिर इस तरह जलें।
हो जिस तरह से शम्मा पे आना पतंग का॥12॥

पतली कमर को मोड़े हैं जिस वक़्त कज कुलाह।
बाहें दराज करते हैं लबझप से ख़्वाह मख़्वाह।
यह शक्ल देखकर कोई कहता है वाह वाह।
अब इस तरफ़ लड़ेगी भला काहे को निगाह।
दिल में तो रूप रहा है लड़ाना पतंग का॥13॥

लाता है फेर फार के तुक्कल जो अपनी वां।
कहता है कोई उनसे ख़बरदार हो, मियां।
अब पेच पड़ने को हैं न दो इतनी ठुमकियां।
घबरा के कन्ने इसके न फंसने दो मेरी जां।
अच्छा नहीं है मुफ़्त कटाना पतंग का॥14॥

गर पेच पड़ गए तो यह कहते हैं देखियो।
रह रह इसी तरह से न अब दीजै ढील को।
“पहले तो यूं क़दम के तई “औ मियां” रखो।
फिर एक रगड़ा देके अभी इसको काट दो।
हैगा इसी में फ़तह का पाना पतंग का॥15॥

और जो किसी से अपनी तुक्कल को लें बचा।
यानी है मांझा खूब मंझा उस की डोर का।
करता है वाह वाह कोई शोर गुल मचा।
कोई पुकारता है कि ऐ! जां! कहूं मैं क्या।
अच्छा है तुमको याद बचाना पतंग का॥16॥

लड़ते हैं जिस मकां में पतंग आन कर यहां।
होता बड़ा हुजूम है ग्यारस के रोज वां।
डोरों की गोली और पतंगें बहुत अयां।
सौ सौ खड़े इकट्ठें उड़ाते हैं शादमां।
उस दिन बड़ा हुनर है जताना पतंग का॥17॥

कटता है जो पतंग तो फिर लूटने उसे।
दो-दो हज़ार दौड़ते हैं, छोटे और बड़े।
काग़ज़ ज़रा सा मिलता है या टुकड़े कांप के।
जब इस तरह की सैर भला आन कर पड़े।
फिर सोचिये तो क्या है ठिकाना पतंग का॥18॥

इस आगरे में यह भी तमाशा है दिलपज़ीर।
होते हैं देख शाद जिसे खु़र्द और कबीर।
क्यों कर न दिल पतंग की हो डोर में असीर।
खूंबां के देखने के लिए क्या मियां नज़ीर।
है यह भी एक तरफ़ा बहाना पतंग का॥19॥

 

Leave a Reply