कँवल हों आब में ख़ुश गुल सबा में शाद रहें-ग़ज़लें-अली अकबर नातिक -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ali Akbar Natiq ,

कँवल हों आब में ख़ुश गुल सबा में शाद रहें-ग़ज़लें-अली अकबर नातिक -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ali Akbar Natiq ,

कँवल हों आब में ख़ुश गुल सबा में शाद रहें
तिरे हज़ीं तिरी आब-ओ-हवा में शाद रहें

पलट के देस के बाग़ों में हम न जाएँगे
शफ़क़-मिज़ाज हैं सहरा-सरा में शाद रहें

चराग़ बाँटने वालों प हैरतें न करो
ये आफ़्ताब हैं, शब की दुआ में शाद रहें

गुलों की खेतियाँ काटी तिरे शहीदों ने
गुलाब गूँधने वाले अज़ा में शाद रहें

Leave a Reply