ऐ सफ़-ए-मिज़्गाँ तकल्लुफ़ बर-तरफ़-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

ऐ सफ़-ए-मिज़्गाँ तकल्लुफ़ बर-तरफ़-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

ऐ सफ़-ए-मिज़्गाँ तकल्लुफ़ बर-तरफ़
देखती क्या है उलट दे सफ़ की सफ़

देख वो गोरा सा मुखड़ा रश्क से
पड़ गए हैं माह के मुँह पर कलफ़

आ गया जब बज़्म में वो शोला-रू
शम्अ तो बस हो गई जल कर तलफ़

साक़ी भी यूँ जाम ले कर रह गया
जिस तरह तस्वीर हो साग़र-ब-कफ़

Leave a Reply